Essay On Sunita Williams In Hindi Language

सुनीता विलियम्स

अंतरिक्ष यात्री
राष्ट्रीयतासंयुक्त राज्य अमेरिका
स्थितिसेवानिवृत्त
जन्म19 सितम्बर 1965 (1965-09-19)(आयु 52)
ओहियो, अमेरिका
पिछ्ला
व्यवसाय
नौसेना पोत चालक, हेलीकाप्टर पायलट, परीक्षण पायलट, पेशेवर नौसैनिक, गोताखोर, तैराक, धर्मार्थ धन जुटाने वाली, पशु-प्रेमी, मैराथन धाविका।
अंतरिक्ष में बीता समय321 दिन 17 घंटे 15 मिनट
चयनअमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी 'नासा'(1998)
मिशनएसटीएस 116, अभियान 14, अभियान 15, एसटीएस 117, सोयुज टीएमए-05 एम, अभियान 32, अभियान 33
मिशन
उपलब्धियाँ
एसटीएस 116, आईएसएस अभियान 14, आईएसएस अभियान 15, एसटीएस 117, सोयुज टीएमए-05एम, अभियान 32, अभियान 33

सुनीता विलियम्स (जन्म: १९ सितंबर, १९६५ यूक्लिड, ओहायो में) अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के माध्यम से अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की दूसरी महिला है।[1] यह भारत के गुजरात के अहमदाबाद से ताल्लुक रखती है। इन्होंने एक महिला अंतरिक्ष यात्री के रूप में १९५ दिनों तक अंतरिक्ष में रहने का विश्व किर्तिमान स्थापित किया है।[2] उनके पिता दीपक पाण्डया अमेरिका में एक डॉक्टर हैं।[3]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

सुनीता लिन पांड्या विलियम्स का जन्म 19 सितम्बर 1965 को अमेरिका के ओहियो राज्य में यूक्लिड नगर (स्थित क्लीवलैंड) में हुआ था। मैसाचुसेट्स से हाई स्कूल पास करने के बाद 1987 में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की नौसैनिक अकादमी से फिजिकल साइन्स में बीएस (स्नातक उपाधि) की परीक्षा उत्तीर्ण की। तत्पश्चात 1995 में उन्होंने फ़्लोरिडा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टैक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में एम.एस. की उपाधि हासिल की। उनके पिता डॉ॰ दीपक एन. पांड्या एक जाने-माने तंत्रिका विज्ञानी (एम.डी) हैं, जिनका संबंध भारत के गुजरात राज्य से हैं। उनकी माँ बॉनी जालोकर पांड्या स्लोवेनिया की हैं। उनका एक बड़ा भाई जय थॉमस पांड्या और एक बड़ी बहन डायना एन, पांड्या है। जब वे एक वर्ष से भी कम की थी तभी पिता 1958 में अहमदाबाद से अमेरिका के बोस्टन में आकर बस गए थे। हालाँकि बच्चे अपने दादा-दादी, ढेर सारे चाचा-चाची और चचेरे भाई-बहनों को छो़ड़ कर ज्यादा खुश नहीं थे, लेकिन परिवार ने पिता दीपक को उनके चिकित्सा पेशे में प्रोत्साहित किया।[4][5]

करियर[संपादित करें]

जून1998 में उनका अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा में चयन हुआ और प्रशिक्षण शुरू हुआ। सुनीता भारतीय मूल की दूसरी महिला हैं जो अमरीका के अंतरिक्ष मिशन पर गईं। सुनीता विलियम्स ने सितंबर / अक्टूबर2007 में भारत का दौरा भी किया। जून, 1998 से नासा से जुड़ी सुनीता ने अभी तक कुल 30 अलग-अलग अंतरिक्ष यानों में 2770 उड़ानें भरी हैं। साथ ही सुनीता सोसाइटी ऑफ एक्सपेरिमेंटल टेस्ट पायलेट्स, सोसाइटी ऑफ फ्लाइट टेस्ट इंजीनियर्स और अमेरिकी हैलिकॉप्टर एसोसिएशन जैसी संस्थाओं से भी जुड़ी हुई हैं।[6][7]

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

उनका विवाह माइकल जे. विलियम्स से हुआ। वे नौसेना पोत चालक, हेलीकाप्टर पायलट, परीक्षण पायलट, पेशेवर नौसैनिक, गोताखोर, तैराक, धर्मार्थ धन जुटाने वाली, पशु-प्रेमी, मैराथन धावक और अब अंतरिक्ष यात्री एवं विश्व-कीर्तिमान धारक हैं। उन्होने एक साधारण व्यक्तित्व से ऊपर उठकर अपनी असाधारण संभाव्यता को पहचाना और कड़ी मेहनत तथा आत्मविश्वास के बल पर उसका भरपूर उपयोग किया।[8][9]

सम्मान और पुरस्कार[संपादित करें]

उन्हें सन २००८ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था।[10] इसके अलावा उन्हें नेवी कमेंडेशन मेडल (2), नेवी एंड मैरीन कॉर्प एचीवमेंट मेडल, ह्यूमैनिटेरियन सर्विस मेडल जैसे कई सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ↑"Astronaut Biography: Sunita Williams [अन्तरिक्ष यात्री की जीवनी: सुनीता विलियम्स]" (अंग्रेज़ी में). SpaceFacts.de. http://www.spacefacts.de/bios/astronauts/english/williams_sunita.htm. अभिगमन तिथि: फरवरी 28, 2014. 
  2. ↑नासा (2007). "Sunita L. Williams (Commander, USN)" (अंग्रेज़ी में). नासा. http://www.jsc.nasa.gov/Bios/htmlbios/williams-s.html. अभिगमन तिथि: फरवरी 28, 2014. 
  3. ↑"Spacewalking astronauts conquer stiff bolt, install key power unit on 2nd trip outside" (अंग्रेज़ी में). Associated Press. 2012. http://www.washingtonpost.com/business/spacewalking-astronauts-conquer-stiff-bolt-install-key-power-unit-on-2nd-trip-outside/2012/09/05/d872ab40-f784-11e1-a93b-7185e3f88849_story.html. अभिगमन तिथि: फरवरी 28, 2014. 
  4. ↑Sunita Williams in her maternal ancestors' homeland one more time, Delo, March 26, 2013
  5. ↑Sunita Williams to start her India trip from April 1,द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया , March 31, 2013
  6. ↑Tariq Malik (2007). "Orbital Champ: ISS Astronaut Sets New U.S. Spacewalk Record [आईआईएस के अन्तरिक्ष यात्री ने अन्तरिक्ष में चलने का नया कीर्तिमान रचा।]" (अंग्रेज़ी में). Space.com. http://www.space.com/missionlaunches/070208_exp14_eva4wrap.html. अभिगमन तिथि: फरवरी 28, 2014. 
  7. ↑"Colbert eagerly awaits NASA decision - CNN.com [कोल्बेर्ट नासा के निर्णय की बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।]" (अंग्रेज़ी में). CNN. April 14, 2009. http://www.cnn.com/2009/SHOWBIZ/TV/04/14/colbert.nasa/index.html. अभिगमन तिथि: फरवरी 28, 2014. 
  8. ↑Dog Whisperer: Astronaut Dogs & Mongo, National Geographic Channel, November 12, 2010
  9. ↑"Astronaut Sunita Williams to adopt Gujarati girl [अन्तरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स ने एक गुजराती लड़की को गोद लिया]" (अंग्रेज़ी में). 27 जून 2012. http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-06-27/ahmedabad/32440687_1_sunita-williams-deepak-pandya-girl-child-campaign. 
  10. ↑"Sunita Williams receives Padma Bhushan [सुनिता विलियम्स को मिला पद्म भूषण]" (अंग्रेज़ी में). http://www.rediff.com/news/2008/jul/05sunita.htm. अभिगमन तिथि: 28 फ़रवरी 2014. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]


पूरा नाम     –  सुनीता माइकल जे. विलियम( विवाहपूर्व – सुनीता दीपक पांड्या)
जन्म          –  19 सितम्बर 1965
जन्मस्थान –  युक्लिड, ओहियो राज्य
पिता          –  डॉ. दीपक एन. पांड्या
माता          –  बानी जालोकर पांड्या
विवाह        –  माइकल जे. विलियम (Sunita Williams Husband )

सुनीता विलियम की जीवनी / Sunita Williams Biography In Hindi

सुनीता विलियम अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के माध्यम से अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की दूसरी महिला है। अंतरिक्ष में 7 बार जाने वाली (50 घंटे 40 मिनट स्पेसवॉक) वह पहली महिला है। वह अंतर्राष्ट्रीय स्पेस स्टेशन अभियान दल 14 और 15 की सदस्य भी रह चुकी है। 2012 में, उन्होंने अभियान दल 32 में फ्लाइट इंजिनियर बनकर और अभियान दल 33 में कमांडर बनकर सेवा की थी।

सुनीता लिन पांड्या विलियम का जन्म अमेरिका के ओहियो राज्य में युक्लिड (स्थित क्लीवलैंड) नगर में हुआ था। मैसाचुसेट्स से हाई स्कूल पास करने के बाद उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की नौसेना अकादमी से फिजिकल साइंस में बीएस की परीक्षा उत्तीर्ण की। बाद में उन्होंने फ्लोरिडा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में एम्एस की उपाधि हासिल की। उनके पिता डॉ. दीपक एन. पांड्या एक जाने माने तंत्रिका विज्ञानी (एमडी) है, जिनका संबंध भारत के गुजरात राज्य से है। उनकी माँ बानी जालोकर पांड्या स्लिवेनिया की है। उनका एक बड़ा भाई जय थॉमस पांड्या और एक बड़ी बहन डायना एन पांड्या है। जब सुनीता की आयु एक वर्ष से भी कम की थी तब उनके पिता अहमदाबाद से अमेरिका के बोस्टन आकर बस गये। हालाँकि बच्चे अपने दादा-दादी, ढेर सारे चाचा-चाची और चचेरे भाई-बहनों को छोड़कर ज्यादा खुश नही थे, लेकिन उन्हें फिर भी जाना पड़ा। अगस्त 1988 में उनका अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा में चयन हुआ और जॉनसन स्पेस सेंटर में प्रशिक्षण शुरू हुआ।

सूनिता ने ये घोषित किया की वे हिन्दू भगवान् गणेश को बहोत मानती है और जब वे अंतरिक्ष गयी थी तो वे अपने साथ हिन्दू धार्मिक ग्रन्थ भगवद गीता भी ले गयी थी। इसके साथ ही सुनीता सोसाइटी ऑफ़ एक्सपेरिमेंटल टेस्ट पायलट की सदस्य भी है।
उनका विवाह माइकल जे. विलियम से हुआ, वे नौसेना पोत चालक, हेलीकाप्टर पायलट, परिक्षण पायलट, पेशेवर नौसैनिक और गोताखोर भी है।

सितम्बर 2007 में विलियम भारत आयी थी। भारत में वह साबरमती आश्रम भी गयी और अपने गाव झुलसान (गुजरात) भी गयी। वहा गुजरात सोसाइटी ने उन्हें सरदार वल्लभभाई पटेल विश्व प्रतिभा अवार्ड से सम्मानित किया। और वह पहली ऐसी महिला बनी जिन्होंने विदेश में रहते हुए एक पुरस्कार को हासिल किया। 4 अक्टूबर 2007 को विलियम ने अमेरिकी एम्बेसी स्कूल में भाषण दिया और वही उनकी मुलाकात भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से हुई।

सुनीता विलियम के सम्मान और पुरस्कार – Sunita Williams Awards :

1) नेवी एंड मैरिन क्रॉप अचीवमेंट मैडल।
2) ह्युमनीटेरियन सर्विस मैडल।
3) नेशनल डिफेन्स सर्विस मैडल।
4) नासा स्पेसफ्लाइट मैडल।
5) गवर्नमेंट ऑफ़ रशिया द्वारा 2011 में “स्पेस अभियान दल” में मेरिट आने के लिये मैडल।
6) भारत सरकार द्वारा 2008 में पद्म भूषण से नवाजा गया।
7) गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी द्वारा 201३ में डॉक्टरेट की उपाधि दी गयी।
8) स्लोवेनिया सरकार द्वारा सन 2013 में गोल्डन आर्डर फॉर मेरिट्स का सम्मान।

सुनीता विलियम “महिला एक व्यक्तित्व अनेक” की एक सच्ची कहानी है।
भारतीय मूल की अंतरिक्ष वैज्ञानिक सुनीता विलियम्स का नाम आज कौन नहीं जानता। यह नाम है एक ऐसा असाधारण महिला का, जिसके नाम अनेक रिकार्ड दर्ज हो चुके हैं। उन्होंने अंतरिक्ष में 194 दिन, 18 घंटे रहकर विश्व रिकार्ड बनाया। यह लेख उसी अप्रतिम महिला की असाधारण इच्छाशक्ति, दृढ़ता, उत्साह तथा आत्मविश्वास की कहानी है।उनके इन गुणों ने उन्हें एक पशु चिकित्सक बनने की महत्वाकांक्षा रखने वीली छोटी-सी बालिका के एक अंतरिक्ष-विज्ञानी, एक आदर्श प्रतिमान बना दिया। अंतरिक्ष में अपने छह माह के प्रवास के दौरान वे दुनियाभर के लाखों लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी रहीं। सुनीता समुद्रों में तैराकी कर चुकी हैं महासागरों में गोताखोरी कर चुकी हैं, युद्ध और मानव-कल्याण के कार्य के लिए उड़ानें भर चुकी हैं, अंतरिक्ष तक पहुँच चुकी हैं और अंतरिक्ष से अब वापस धरती पर आ चुकी हैं और एक जीवन्त प्रेरणा का उदाहरण बन गई हैं।

पढ़े Indian Astronauts :-

Please Note :- अगर आपके पास Sunita Williams Biography In Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे।
*अगर आपको हमारी Information About Sunita Williams History In Hindi अच्छी लगे तो हमें Facebook पे Like और Share कीजिये।
Note:- E-MAIL Subscription करे और पायें Essay On Sunita Williams In Hindi And More New Article आपके ईमेल पर।

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *